-->

मन की ज़मीं,,,,,

इस ख़ुदाई की कारीगरी भी क्या कहिये जनाब, किसी पत्थर में मूरत है, कोई पत्थर की मूरत है, पत्थर के सनम भी यहीं हैं, पत्थर के देवता भी यहीं,,...

मुझे और तराशा जाए !

बेवजह दिल पे कोई बोझ ना भारी रखिए , ज़िन्दगी जंग है इस जंग को जारी रखिए ! मेरे टूटने की वज़ह मेरे जौहरी से पूछिये ! उसकी ख्वाहिश है मु...

समाँ है ये तर-बतर-सा,,,,,

समाँ है ये तर-बतर-सा रुत भी है भीगी-भीगी सी धुले-धुले से सब शज़र हैं फ़िज़ा भी है ये निखरी-सी| शैदाई अब्रे सियाह भटकते जहँ-तहँ बरसते...