image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

प्रेम


नीम शब आँखों में घुले स्वप्न-सा
तन-मन भ्रमित चाँद चकोर सा

मुन्तजिर चांदनी, आंगन तारों का
यही तो है चिरंतन अहसास प्रेम का

_____हिमांशु

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें