image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

बरसती ही रही यादें


Emotion of love
रात, कुछ लहराकर मखमली आँचल

झिर-मिर धुली चांदनी बरसाती रही,,

रह-रह के चलती यादों की मंद बयार

मन-सरिता को मंथर सरसराती रही|



नम हुईं आँखें,जो यादों की बरखा से

मन-आँगन  बरबस छलकाती रहीं,

दूर कहीं परबत की हसीन तराई में

कोई बांसुरी फ़िज़ा को गुंजाती रही|



तेरी यादों से फली वो शाख प्रीत की

रात भर लहराती रही, इठलाती रही,

बरसती  ही रही यादें यूँ टूट-टूट कर
मोतियों की माला ज्यूँ बिखराती रही|

                                                  ____हिमांशु







Barasti hi rahi Yaadein



                                                                                

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें