image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

दिल के दरीचे में




बड़े जतन से महफ़ूज़ रखा है दिल के दरीचे में,



ना जाने किस जनम से महकती तेरी यादों को |



*****************************



शबोसहर बस एक बेकली सी है मन में,



न तुझे याद करते बनता है, न बिसराते | 



*****************************



दुनिया समझती है तन्हा



इस दिल-ए-नाचीज़ को |



उन्हें क्या खबर कि



आबाद है ये हर सू



किसी के ख़याल से |


Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें