image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

ये आँसू भी अजब हैं

















ये आँसू भी अजब हैं
उनके आने पे भी उमड़ते हैं
और ना आने पे तो
समंदर बन जाते हैं |

दर्द में तो छलकते हैं
नश्तर बनकर
ख़ुशी में बरसते हैं
महासागर बनकर |

___हिमांशु

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें