image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

वो बन के सांध्य तारा

किसी उदास मौसम में
किसी वीरान लम्हे में
वो बन के सांझ-तारा
चुपके से दबे पाँव
काश ! उतर आये हौले से
दिल के गीले आँगन में |

रूख़सारों पे ढुलकते आँसू
मुस्कुराते-से लगें,
छलती-सी मुस्कान में
हो छिपी दर्दीली चीख़,
वो बनके चाँद गगन का
उतर आए मेरे अंगना !

वो बन के सांध्य तारा

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें