image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

तेरी याद - शाम-ए-फ़ुरक़त में

तेरी याद - शाम-ए-फ़ुरक़त में

तेरी याद -
शाम-ए-फ़ुरक़त में
झिलमिल नन्हाँ-सा दीप,,
नीरव-मग पे
गुदगुदाती-सी आहट |

तेरी याद-
दौर-ए-गुफ़्तगू में
चाहत-ए-फ़िरदौस,,,
तपते सहरा में
बारिश की फुहार |
औ' तेरी दीद
ख़िज़ाँ के बाद
नेमत-ए-बहिश्त,
स्याह वीराने में
चम्पई बहार |
ऐ परवरदिगार!
बारिश-ए-रहमत
सब पर तारी हो |
शमा-ए-सुकूं से मुनव्वर
सदा हर महफ़िल हो |
____हिमांशु
तेरी याद - शाम-ए-फ़ुरक़त में
तेरी याद - शाम-ए-फ़ुरक़त में 

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें