image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

वो शामे-मंज़र आया है,,,,

 
आज फिर से वो शामे-मंज़र आया है
किसी की आँखों ने अश्क बहाया  है |

छुपा लिए फिर किसी ने आंसू बारिश में
दिल में फिर ग़म का सैलाब आया है |

याद उसकी आयी थी जो  अश्क  बनकर
ढलक गयी रुखसारों पे वो मोती बनकर |

याद की  तरह ग़र साथ होते वो भी
तो ये मौसम भी सौ-सौ रंग लाया है |

____हिमांशु महला

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें