image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

ये शाम का बढ़ता धुंधलका,,,,,



ये शाम का बढ़ता धुंधलका
सर्दो-बू से गुँथा-लिपटा हुआ,
उतरता चला आ रहा
ज़र्रे-ज़र्रे जज़्ब होता हुआ |

सियाह गुलाबी-सी पैरहन
चाँद-सितारों जड़ा आँचल
हर-सू फैलाती इक मदहोशी
चली जा रही रसवंती साँझ |

सूरज भी कंप कंपाकर
ओढ़ काली गरम चादर
वो उतर चला अस्ताचल
कल फ़िर आने का वादा कर |

तान अँधेरे की चादर
सोने चले बस्ती नगर
सरसराती सर्द फ़िज़ा में
तय कर आज का सफ़र |

_____हिमांशु

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें