image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

वो दूर आसमां में,,,,


वो दूर आसमां में
टूटा इक सितारा
आह भरता, नीचे
गिर रहा था बेचारा,
आह सुनने वाला
ना था कोई,
वरन,
मुन्तज़िर थे कई
किसी ना किसी
इल्तिज़ा संग |

प्रश्न उपजा मन में,,,,
अगर वो दे सकता
तो खुद
क्यूँ टूट जाता ?
वैसे भी,
किसी की टूटन से
कुछ हासिल करना
क्या ठीक होगा?

दरअसल,
क़दर किरदार की
होती है,
वरना,
कद में तो
अक़्सर
साया भी इन्सान से
बड़ा होता है |

ख़ुद पर
इत्मीनान की
हुनरपरस्ती
ज़रूरी है,
क्यूँकि,
सहारे कितने भी
सच्चे हों
चलना तो
ख़ुद के पैरों पर
ही पड़ता है |

____हिमांशु


Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें