image1 image2 image3

HELLO I'M Himanshu |WELCOME TO MY PERSONAL BLOG|I LOVE BEAUTY OF KNOWLEDGE|PRINICIPAL OF WPS

ये मन भी ना,,,,,

ये मन भी ना????
कभी अनमना,
तो कभी खिला-खिला
मन ना हुआ,
राधा के जूडे का फूल हो गया!

कभी कृष्ण-सा बांसुरी बजाता,
कभी बुद्ध-सा मुस्कान सजाता,
कभी शिव-सा भोला-भाला
अपनी ही धुन में चलता जाता,,,
पग-पग कितने ख्वाब सजाता
चंदा-तारे राह बिछाता,,,
अपनी दुनिया खुद ही बनाता
हँसता, रोता औ' पछताता,,,
क्यूँ रे मन!
काहे इतने रूप सजाता?
_____हिमांशु

Share this:

CONVERSATION

0 टिप्पणियाँ:

टिप्पणी पोस्ट करें